मंगलवार, 18 मार्च 2014

साँसे फिर चलती नहीं थम जाने के बाद

साँसे फिर चलती नहीं थम जाने के बाद
हम जीते रहे ज़िन्दगी मर जाने के बाद 

ऐसा नही था की जीना नही आता था 
पर भला जी के भी क्या करते 
उनसे दूर हो जाने के बाद

मयखाने में इल्म हुआ की बेहोशी क्या चीज होती है
हमें होश आया मदहोश जाने के बाद 

वाकिफ ना थे वो की आग लगी है हमारे सीने में
जली उनकी साँसे हमारे जल जाने के बाद

ताउम्र जिसके इन्तेजार में रास्ता देखते रहे
वो आया भी करीब तो हमारे दफ़न हो जाने के बाद

अराहान

कोई टिप्पणी नहीं: