मंगलवार, 18 मार्च 2014

प्रेम पत्र

मेरे ह्रदय पे पड़ गयी है
तुम्हारे कोमल स्पर्श की सिलवटें
सूरज की तपिश भी
इस्त्री नहीं कर सकती इसे
मेरे हृदय पर तुमने अंकित कर दिया है
प्रेम से भी पुरानी किसी भाषा में
प्रेम से भरा एक प्रेम पत्र

अराहान

कोई टिप्पणी नहीं: