गुरुवार, 19 सितंबर 2013

बहरूपिया

तुम्हारी बातों में तेज छुरी सी धार है
Painting: Farley del Rosario
तुम्हारे होठों से खून बहता है
तुम्हारे अन्दर एक बागी है
पर तुम्हारे छाती पे नहीं लिखा है
Beware: Rebel Inside
तुम धोखेबाज हो
बहरूपिये हो
तुम्हारे प्रेमिकाओं ने तुम्हे छोड़ दिया
तुम पहेली थे
और उन्हें पसंद थे गुलाबी टेडी बियर
तुम तेज नाखूनों वाले काले भालू बने
टेडी बियर ना बन सके
तुम बीते सालों के कैलेण्डर से दिन चुराकर
अपने गुल्लक में छिपाते थे
तुम चोर हो
बहरूपिये हो
तुम घडी के सुईयां रोक  कर
समय को रोकना चाहते हो
समय को धोखा देना चाहते हो
तुम नादान हो
बेवकूफ हो
बहरूपिये हो
तुम्हारी ट्रेन छूटी  थी
और तुमने बना लिया दुश्मन
उन सभी लोगो को जो ट्रेन में बैठे थे
जिन्हीने नहीं खिंचा ट्रेन को रोकने वाला चेन
तुम खामोश हो
बहरूपिये हो
तुमने अपने मोबाइल को रख के साइलेंट मोड में
भूल जाते हो अपने ही घर में
और परेशां हो कर ढूंढ़ते हो
की कब बजेगा
तुम्हारे मोबाइल से जादू तेरी नजर वाला रिंगटोन
और ढूंढ लोगे अपना मोबाइल
तुम मकड़ी हो
तुम्हे अच्छा लगता है अपने ही बनाये जाल में उलझना
तुम बहरूपिये हो
तुम लिखते हो कवितायेँ
अपने ख्यालों की कतरने काटकर
कच्ची शराब को स्याही बनाकर
और मारे जाते हो अपनी ही कविताओं के नशे से
अपने ही ख्यालों के विस्फोट से
तुम नाकामयाब हो
हर कामयाबी में
तुम उलझन हो
पहेली हो
बहरूपिये हो


अराहान


कोई टिप्पणी नहीं: