रविवार, 29 सितंबर 2013

बड़े ही हर्ष का विषय है दुनिया के लिए इश्क में किसी का क़त्ल हो जाना

घडी के सुइयों से घायल हो कर 
वक़्त को धमकी भरे ख़त भेजना 
चेहरे पर हंसी की स्टीकर चिपकाकर 
रुमाल के पीछे आंसू बहाना 
जेबों में भरके बेबसी का बारूद 
भरी महफ़िल में फट जाना 
कलम में तेजाब भर के 
आग लिख जाना 
बड़े ही हर्ष का विषय है दुनिया के लिए 
इश्क में किसी का क़त्ल हो जाना 

अराहान

कोई टिप्पणी नहीं: