सोमवार, 29 जून 2015

उन दिनों




उन दिनों कुत्ते ज्यादा भौंकते थे रातों में
प्यार के लिए
*शहर के दुकानदार बेच रहे थे 100 रुपये में दो चादर
*चोर उन दिनों माँओं को बताते थे पुलिस की नौकरी के बारे में
*मैट्रिक इंटर के लड़के छतों पर बिना सीढ़ी के चढ़ते हुए गिरा करते थे
*मेडिकल के दुकानों में गर्भनिरोधक गोलियां धड़ल्ले से मांग लेती थी लड़कियां
*उन दिनों कंपनियां माँ के हाथ के खाने के साथ माँ का प्यार भी डब्बो में बेचने लगी थी
*टीवी पे बिगबॉस देख के दरवाजे बन्द कर दिए जाते थे रातों में
उन्ही दिनों जब कुत्ते बहुत भौंका करते थे रातों में
और सौ रुपये में मिलती थी दो चादर
मेडिकल स्टोर से धड़ल्ले मांग लेती थे गर्भनिरोधक गोलियां
प्यार का बाजार बहुत फला फूला
और कुछ लोगो का उठने लगा भरोसा प्यार से

गुरुवार, 12 फ़रवरी 2015

अपने हाथो में ले
गिनो
मुट्ठी भर चावल
और हां अबकी बार भी हिसाब गलत करना
बाहर कुछ भूखे बच्चे बैठे हैं
हाथो में थालियां और आँखों में उम्मीद लिए
सुनो, हर बार की तरह
इस बार भी बोल देना एक झूठ
दे देना उन बच्चों को एक दिलासा
मैं भी बैठा हूँ उन बच्चों के बीच
थोड़ा सा भूखा और झुंझलाया सा

बोरवेल में सच का गिरना


दुनिया कह रही थी
"बोरवेल में बच्चा गिरा है"
दुनिया अपने हाथ कमीज में छिपा कर कह रही थी
"हमारे हाथ कटे है"
दुनिया चिल्ला चिल्ला कर उस से कह रही थी
"उतरो नीचे, तुम्हारे पास कमीज नहीं"
"तुम्हारे हाथ दीखते हैं"
वो दुनिया से नही डरता था
दुनिया की परवाह नही थी
पर बच्चे के बारे में सोच कर उतरा
उसे सच्चाई पसंद थी
गहराई पसंद थी
उसे अँधेरे में रौशनी की तलाश पसंद थी
वो उतरा
बोरवेल में उतरता गया
उसे कोई बच्चा ना मिला
पर गहराई में उतरने पर उसे सच्चाई मिली
वो सोचा
दुनिया को गलतफहमी हुयी है
"कोई बच्चा नहीं गिरा है बोरवेल में"
"हाँ पर सच्चाई जरूर दफ़न है इस बोरवेल में"
वो नीचे से चिल्लाया
"यहां कोई बच्चा नहीं है"
वो चिल्लाता रहा
"यहाँ कोई बच्चा नहीं है"
उसकी आवाज टकराती और लौट आती
थक कर जब वो चुप हुआ तो,
उसे दुनिया के चिल्लाने की एक धीमी आवाज सुनाई दी
"बोरवेल में शराबी गिरा है"

भूख

टिन के फूटे कनस्तर में थोड़ा सा आटा है
पेट में बरसो पुरानी भूख है
एक लड़की चुराती है आटा
एक लड़का चुराता है भूख
टिन के उस फूटे कनस्तर में अब भी थोडा सा आटा है
पेट की भूख ने बस ख़ुदकुशी कर ली है

मैं झूठा हूँ, और खुश हूँ

मैं खुश नहीं हूँ
वजहें काफी हो सकती है खुश रहने की

एक बूढी हो चुकी किताब पे जिल्द लगाने से
मुझे मिलनी चाहिए ख़ुशी
पर इस किताब के फटते पन्नों को देख दुःख नही होता
शायद मैंने पतंगे बहुत काटी है
पतंगों की डोर से
पतंगे बनायीं भी बहुत है
किताबे फाड़ के

खुश रहने के लिए बहुत झूठ बोलना चाहता हूँ
पर सच्चाई हर पल गर्भवती हो जाती है
सच्चाई के पेट पे लात मारने के लिए हिम्मत चुराई जाती होगी कहीं
पर मैं चोर नहीं, मैं हत्यारा नहीं
हाँ पर मैं झूठा हूँ
और मैं खुश हूँ

मंगलवार, 10 फ़रवरी 2015

लापता गली, गुमशुदा लोग

गली, तीन घर के बाद लापता हो गयी
मोहल्ले के लोग गुमशुदा हो गए
एक लड़की छत पे चढ़ने के बाद कभी उतरी नही
एक लड़के ने आसमान की खुदाई शुरू कर दी
डाकिये उस शहर के पीने लगे शराब
कबूतरों के मांस के साथ
चील कबूतर बन कर आने लगे लड़कियों के छतो पर
और उनकी पायल चुराकर गायब होने लगे आसमान में
आसमान की खुदाई करने वाले लड़का
आसमान में छेद करता गया
आसमान की गहराई में उसे सबसे पहले वो गली मिली
फिर मोहल्ले के गुमशुदा लोग
फिर शहर के कबूतर
कुछ डाकिये
और आखिर में मिली वो लड़की
और एक धक्का

लड़का अब जमीन पे रहता है
और डरता है
आसमान से
डाकियों से
कबूतरों से
चीलों से
लोगो से
और उस लड़की से

शनिवार, 20 दिसंबर 2014

नौकरी

नवम्बर की उस आवारा शाम को लड़का रोज की तरह पार्क की बेंच पर बैठा था,उस लड़की की इंतजार में, जिस से वो प्यार करता था।दिन भर इधर उधर दफ्तर दर दफ्तर डिग्रीयों की फ़ाइल लेकर मारा मारा फिरने के बाउजूद भी उसे नौकरी नहीं मिली थी। वो रोज शाम की तरह इस शाम को भी पार्क की उस बेंच पर वो उस लड़की का इन्तजार कर रहा था जिसके गोद में सर रखकर वो रोज की कहानी बताता था और अपने आँखों क3 आंसू बहने से पहले ही उसके दुपट्टे में पोंछ लेता था। उस दिन काफी देर हो गयी थी लड़की के आने में। लड़का बेचैनी में पार्क के उस बेंच पर अपना और उस लड़की का नाम उकेर रहा था। तभी दूर से उसे कोई आता हुआ दिखाई दिया, शाम के धुंध में उसे कुछ भी साफ़ नहीं दिखा रहा था। जब वो धुंधली तस्वीर उसके करीब आई तो उसे एक छोटे से बच्चे का चेहरा नजर आया। बच्चा जब सामने आया तब उसने हाथ से एक पैकेट निकाल कर उस लड़के को दिया और तुरंत ही शाम की धुंध में गायब हो गया। लड़के एक पल के लिए चौंक गया फिर उसने अनमने ढंग से उस पैकेट को खोला। पैकेट में कुछ कागज़ लिफाफे थे। जब उसने पहला लिफाफा खोला तो उसमे किसी कंपनी का को दस्तावेज नजर आये। पूरा पढ़ने पर उसे पता चला की वो तो उसी कंपनी का कॉल लेटर था जिस कंपनी में नौकरी के लिए वो आज सुबह सुबह गया था। लड़का बहुत खुश हुआ, उसकी सारी चिंताए दूर हो गयी थी। वो मन ही मन खुश हो रहा था की नौकरी मिलने की खबर सबसे पहले वो उस लड़की को देगा। लड़का इतना खुश था की ख़ुशी में उसने दुसरा लिफाफा नहीं खोला। कुछ देर बाद जब उसके आँखों से सुनहरे भविष्य की धुप हटी तब उसने दूसरा लिफाफा खोला। ये कोई शादी का कार्ड था। पूरी तरह से कार्ड पढ़ने पर वो स्तब्ध रह गया। उसकी आँखों से आंसू धीरे धीरे रास्ता ढूंढते ढूंढते निकलने लगे। लड़के को उस समय लड़की के दुपट्टे की बहुत ज्यादा जरुरत महसूस हुई। पर उस समय लड़की उसके पास न आ पायी। शाम के उस धुंध में लड़के को एक और अक्स नजर आया। मानो वो अक्स दूर से उस लड़के को देख रहा हो पर पास नाही आ रहा। लड़का पार्क की बेंच से उठकर उस अक्स के करीब जाने लगा पर वो जितना उस परछाई के पीछे जाता परछाई उतने ही दूर जाती रही। और एक समय के बाद परछाई नवंबर की उस धुंधली शाम में न जाने कहाँ खो गयी।

अगले महीने की पहली तारीख लड़के की जिंदगी की एक महत्वपूर्ण तारीख थी। वो दिन लड़के की नौकरी का पहला दिन था और उसी दिन लड़की की शादी उसके कंपनी के मालिक, उसके बॉस से हो रही थी।